नन्दूपुर गांव में घटनास्थल का निरीक्षण करते एडीजी जोन वाराणसी समेत अन्य पुलिस अधिकारी।
– फोटो : Twitter: @mirzapurpolice

ख़बर सुनें

बिहार के हिस्ट्रीशीटर समेत तीन की गोली मारकर हत्या करने के बाद शवों को चुनार कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत नंदूपुर गांव के पास फेंके जाने के मामले में जांच पड़ताल के लिए सोमवार को एडीजी जोन वाराणसी बृजभूषण घटनास्थल पर पहुंचे। सोमवार को सीओ और थानाध्यक्ष के नेतृत्व में दो टीमें भी बिहार के लिए रवाना की गईं। 

मिर्जापुर-वाराणसी बार्डर पर रविवार की भोर में सड़क किनारे तीन शव खून से लथपथ मिले थे। शव मिलने की खबर से क्षेत्र में सनसनी फैल गई थी। इसमें एक बिहार का हिस्ट्रीशीटर पिंटू कुमार (40) निवासी अमरी तालाब करवरिया जनपद सासाराम था। दूसरा राजकुमार (35) उर्फ पिंटू यादव और तीसरा ओम कुमार निवासी जमुआ थाना गोरारी जिला रोहतास का था।

राजकुमार पिंटू के स्कार्पियों का चालक था और ओम राजकुमार का साथी था। राजकुमार के पिता घुघली यादव की तहरीर पर पुलिस ने कृष्णा सिंह व लाल बाबू निवासी रोहतास के खिलाफ हत्या और अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। मामले की जांच के लिए एसपी के निर्देश में गठित सीओ चुनार सुशील कुमार यादव और चुनार कोतवाल गोपालजी गुप्ता के नेतृत्व में दो टीम बिहार रवाना हुई। टीम बिहार पुलिस के सहयोग से दोनों हत्यारोपितों को पकड़ने और मामले की पड़ताल के लिए गई है।
आधा घंटा तक एडीजी ने की छानबीन

एडीजी जोन वाराणसी बृजभूषण सोमवार को चुनार कोतवाली क्षेत्र के नंदूपुर गांव पहुंचे। जहां पर तीनों शवों को फेंका गया था। एडीजी ने आईजी पीयूष श्रीवास्तव, एसपी अजय कुमार कुमार सिंह, एएसपी नक्सल महेश सिंह अत्री के साथ आधा घंटा तक मामले के संबंध में छानबीन की और जल्द से जल्द मामले का खुलासा करने का निर्देश दिया। 

राजातालाब में मिली स्कार्पियो
हिस्ट्रीशीटर पिंटू कुमार की स्कार्पियों सोमवार को वाराणसी जिले के राजातालाब में सड़क किनारे खड़ी मिली। पिंटू कुमार, राजकुमार और ओम इसी स्कार्पियो से बिहार से निकले थे। इस बीच उनकी हत्या हो गई, शव को चुनार के नंदूपुर में फेंका गया। छानबीन में पुलिस को पता चला कि स्कार्पियो से तीनों निकले थे। इसके बाद पुलिस स्कार्पियो की छानबीन में जुटी थी। सोमवार को राजातालाब पुलिस चौकी से 100 मीटर आगे  स्कार्पियो खड़ी होने की जानकारी होने पर चुनार पुलिस उसे लेकर आई। 

राजकुमार और ओम का हुआ पोस्टमार्टम

राजकुमार और ओम के परिजन रविवार की शाम को चुनार पहुंचे थे। रात होने के कारण पोस्टमार्टम नहीं हो सका। सोमवार की शाम को राजकुमार और ओम का पोस्टमार्टम हुआ। इन दोनों का शव तो उनके परिजन ले जाएंगे, पर पिंटू कुमार का कोई नहीं आया है। ऐसे में उसका शव कौन ले जाएगा। एएसपी नक्सल ने बताया कि रात को पिंटू कुमार का भी पोस्टमार्टम करा दिया जाएगा। 

राष्ट्रपति दौरे के बाद भी शव फेंका जाना पुलिस की बड़ी चूक

राष्ट्रपति रविवार को वाराणसी से सोनभद्र के बाद मिर्जापुर में आने वाले थे। इसे देखते हुए वाराणसी, सोनभद्र और मिर्जापुर में सुरक्षा व्यवस्था तगड़ी की गई थी, इसके बाद भी बिहार से शव लाकर कोई वाराणसी के रास्ते बार्डर पर मिर्जापुर में फेंका गया। यह पुलिस की सुरक्षा में बड़ी चूक मानी जाएगी। इतनी बड़ी चूक और नाकामियों के बाद भी पुलिस महकमा में कोई कार्रवाई नहीं की गई।

बिहार के हिस्ट्रीशीटर समेत तीन की गोली मारकर हत्या करने के बाद शवों को चुनार कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत नंदूपुर गांव के पास फेंके जाने के मामले में जांच पड़ताल के लिए सोमवार को एडीजी जोन वाराणसी बृजभूषण घटनास्थल पर पहुंचे। सोमवार को सीओ और थानाध्यक्ष के नेतृत्व में दो टीमें भी बिहार के लिए रवाना की गईं। 

मिर्जापुर-वाराणसी बार्डर पर रविवार की भोर में सड़क किनारे तीन शव खून से लथपथ मिले थे। शव मिलने की खबर से क्षेत्र में सनसनी फैल गई थी। इसमें एक बिहार का हिस्ट्रीशीटर पिंटू कुमार (40) निवासी अमरी तालाब करवरिया जनपद सासाराम था। दूसरा राजकुमार (35) उर्फ पिंटू यादव और तीसरा ओम कुमार निवासी जमुआ थाना गोरारी जिला रोहतास का था।

राजकुमार पिंटू के स्कार्पियों का चालक था और ओम राजकुमार का साथी था। राजकुमार के पिता घुघली यादव की तहरीर पर पुलिस ने कृष्णा सिंह व लाल बाबू निवासी रोहतास के खिलाफ हत्या और अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। मामले की जांच के लिए एसपी के निर्देश में गठित सीओ चुनार सुशील कुमार यादव और चुनार कोतवाल गोपालजी गुप्ता के नेतृत्व में दो टीम बिहार रवाना हुई। टीम बिहार पुलिस के सहयोग से दोनों हत्यारोपितों को पकड़ने और मामले की पड़ताल के लिए गई है।

आधा घंटा तक एडीजी ने की छानबीन



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here