• Hindi News
  • Business
  • US Becomes India’s Second Largest Oil Supplier; Iraq Remained Number One, Saudi Arabia Slipped To Number Four

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • टोटल ऑयल इंपोर्ट में खाड़ी देशों का हिस्सा 52.7% पर आ गया
  • ऑयल के कुल आयात में अफ्रीका का हिस्सा बढ़कर 15% हो गया

अमेरिका भारत की क्रूड ऑयल की जरूरत पूरी करने वाला दूसरा सबसे बड़ा देश हो गया है। पिछले महीने सऊदी अरब भारत को ऑयल एक्सपोर्ट के मामले चौथे नंबर पर पहुंच गया था। फरवरी में भारत का सबसे बड़ा क्रूड ऑयल एक्सपोर्टर इराक रहा। फरवरी में देश में बाहर से 39.2 लाख बैरल रोजाना क्रूड आया जो जनवरी से 18% कम था।

OPEC के उत्पादन में कमी, US में सस्ता रहा क्रूड

आयात-निर्यात के आंकड़ों के मुताबिक, खाड़ी देशों से आयात घटने की सबसे बड़ी वजह OPEC और दूसरे क्रूड निर्यातक देशों का उत्पादन घटाना था। इनके मुकाबले अमेरिका से इंपोर्ट के रिकॉर्ड लेवल पर पहुंचने की वजह वहां क्रूड ऑयल का सस्ता होना है। क्रूड ऑयल के टोटल इंपोर्ट में खाड़ी देशों का हिस्सा 22 महीने के निचले लेवल 52.7% पर आ गया। इनके मुकाबले ऑयल के कुल आयात में अफ्रीका का हिस्सा बढ़कर 15% हो गया।

US से क्रूड का आयात मासिक आधार पर 48% बढ़ा

फरवरी में दुनिया के सबसे बड़े ऑयल प्रोड्यूसर अमेरिका से क्रूड ऑयल का आयात मासिक आधार पर 48% बढ़कर 5,45,300 बैरल रोजाना हो गया। न्यूज एजेंसी रायटर के मुताबिक, पिछले महीने देश में क्रूड का जितना आयात हुआ उसमें 14% हिस्सा अमेरिका से आया था। इसके मुकाबले सऊदी अरब से आने वाले तेल की मात्रा जनवरी के मुकाबले 42% घटकर 4,45,200 बैरल रोजाना पर आ गई।

सऊदी अरब से आयात 10 साल के निचले स्तर पर

आंकड़ों के मुताबिक सऊदी अरब से क्रूड का आयात फरवरी में 10 साल के निचले स्तर पर आ गया। जनवरी 2006 के बाद पहली बार सऊदी अरब भारत को क्रूड ऑयल बेचने के मामले में चौथे नंबर पर रहा है। आमतौर पर यह भारत के टॉप दो बड़े ऑयल निर्यातकों में शामिल रहा है। इराक भारत के लिए ऑयल का सबसे बड़ा एक्सपोर्टर बना हुआ है। हालांकि वहां से जनवरी के मुकाबले 23% कम क्रूड आया और वहां से उसका आयात पांच महीने के निचले स्तर 8,67,500 बैरल रोजाना पर आ गया।

US में कमजोर मांग, रिफाइनरी में कामकाज कम

ग्लोबल फाइनेंशियल मार्केट डेटा प्रोवाइडर रिफिनिटिव के एनालिस्ट एहसान उल हक के मुताबिक, ‘अमेरिका में क्रूड की मांग कमजोर थी और रिफाइनरी में कामकाज कम हो गया था। अमेरिका को क्रूड कहीं न कहीं बेचना था और एशिया में मांग तेजी से रिकवर हो रही थी। कारोबारी दिक्कतों की वजह से चीन अमेरिका से ऑयल नहीं ले रहा है। इसलिए भारत उनके लिए स्वाभाविक विकल्प था।’

भारत के लिए तीसरा बड़ा सप्लायर बना नाइजीरिया

भारत के ऑयल एक्सपोर्टर की लिस्ट में जनवरी को तीसरे नंबर पर रहा संयुक्त अरब अमीरात (UAE) पांचवें पर पहुंच गया। आयातकों की लिस्ट में नाइजीरिया पांचवें से उछलकर तीसरे नंबर पर आ गया। वहां से क्रूड का आयात अक्टूबर 2019 के बाद 4,72,300 बैरल प्रति बैरल के सबसे ऊँचे स्तर पर पहुंच गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here