अमर उजाला नेटवर्क, मिर्जापुर
Published by: हरि User
Updated Wed, 30 Jun 2021 12:04 AM IST

सार

विंध्यवासिनी धाम में दर्शन के बाद विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने कहा कि धार्मिक तीर्थ स्थलों का सबसे बड़ा केंद्र विंध्यवासिनी धाम है। जैसे अयोध्या, मथुरा और वृंदावन का विकास हुआ है, उसी तरह यहां का भी विकास कराया जाएगा। 
 

मां विंध्यवासिनी दरबार में दर्शन पूजन करते विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित।
– फोटो : सोशल मीडिया।

ख़बर सुनें

विंध्यवासिनी धाम में दर्शन करने पहुंचे विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने मंगलवार को कहा कि विंध्यक्षेत्र का विकास अयोध्या, काशी और मथुरा की तर्ज पर कराया जाएगा। तीर्थ स्थलों के विकास से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

विधानसभा अध्यक्ष ने आस्था धाम पहुंचकर मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। वाराणसी से सड़क मार्ग से पुरानी वीआईपी मार्ग स्थित एक होटल में कुछ देर रुकने के बाद न्यू वीआईपी मार्ग होते हुए गर्भगृह में पहुंचकर उन्होंने विधि-विधान से मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। मंदिर परिसर में विराजमान अन्य देवी-देवताओं का भी दर्शन-पूजन किया। दर्शन कर बाहर आने पर जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने विधानसभा अध्यक्ष का स्वागत किया।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि माता के दरबार में अलग तरह की अनुभूति होती है। विंध्य कारिडोर योजना के संबंध में बताया कि धार्मिक तीर्थ स्थलों का सबसे बड़ा केंद्र विंध्यवासिनी धाम है। उन्होंने कहा कि जैसे अयोध्या, मथुरा और वृंदावन का विकास हुआ है, उसी तरह यहां का भी विकास कराया जाएगा। इस मौके पर नगर विधायक रत्नाकर मिश्र, मझवां विधायक शुचिस्मिता मौर्य, पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह, एसडीएम सदर गौरव श्रीवास्तव, भाजपा नेता विष्णु सोनकर, हर्षित खत्री आदि मौजूद रहे।

विस्तार

विंध्यवासिनी धाम में दर्शन करने पहुंचे विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित ने मंगलवार को कहा कि विंध्यक्षेत्र का विकास अयोध्या, काशी और मथुरा की तर्ज पर कराया जाएगा। तीर्थ स्थलों के विकास से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा।

विधानसभा अध्यक्ष ने आस्था धाम पहुंचकर मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। वाराणसी से सड़क मार्ग से पुरानी वीआईपी मार्ग स्थित एक होटल में कुछ देर रुकने के बाद न्यू वीआईपी मार्ग होते हुए गर्भगृह में पहुंचकर उन्होंने विधि-विधान से मां विंध्यवासिनी का दर्शन-पूजन किया। मंदिर परिसर में विराजमान अन्य देवी-देवताओं का भी दर्शन-पूजन किया। दर्शन कर बाहर आने पर जिलाधिकारी प्रवीण कुमार लक्षकार ने विधानसभा अध्यक्ष का स्वागत किया।

विधानसभा अध्यक्ष ने कहा कि माता के दरबार में अलग तरह की अनुभूति होती है। विंध्य कारिडोर योजना के संबंध में बताया कि धार्मिक तीर्थ स्थलों का सबसे बड़ा केंद्र विंध्यवासिनी धाम है। उन्होंने कहा कि जैसे अयोध्या, मथुरा और वृंदावन का विकास हुआ है, उसी तरह यहां का भी विकास कराया जाएगा। इस मौके पर नगर विधायक रत्नाकर मिश्र, मझवां विधायक शुचिस्मिता मौर्य, पुलिस अधीक्षक अजय कुमार सिंह, एसडीएम सदर गौरव श्रीवास्तव, भाजपा नेता विष्णु सोनकर, हर्षित खत्री आदि मौजूद रहे।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here