अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो)  यू ट्यूब ने डोनाल्ड ट्रम्प को अनिश्चितकाल के लिए निलंबित किया

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल फोटो) यू ट्यूब ने डोनाल्ड ट्रम्प को अनिश्चितकाल के लिए निलंबित किया

सोशल मीडिया की दिग्‍गज कंपनी यू ट्यूब ने यह स्‍पष्‍ट किया है कि वह ट्रम्‍प के चैनल पर लगे प्रतिबंध को बढ़ा रही है. इस चैनल के 30 लाख सब्‍सक्राइबर्स हैं. अन्‍य सोशल मीडिया प्‍लेटफॉर्म्स की तरह निर्णय लेते हुए यूट्यूब ने यह कदम उठाया. अमेरिका में 6 जनवरी को हुए कैपिटल दंगे के बाद अन्‍य सोशल मीडिया प्‍लेटफार्मस ने प्रतिबंध लगाने का निर्णय लिया था.

  • News18Hindi

  • Last Updated:
    January 27, 2021, 6:47 PM IST

वॉशिंगटन. अमेरिकी मीडिया ने बताया कि यूट्यूब (YouTube) ने पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प (Former US President Donald Trump) को अनिश्चितकाल के लिए निलंबित कर दिया है और कहा है कि यह पूर्व राष्ट्रपति के वकील रूडी गिउलिआनी को भी अपने क्लिप का मॉनेटाइजेशन करने से रोक देगा. करीब एक सप्‍ताह बाद सोशल मीडिया की दिग्‍गज कंपनी ने इस बात की पुष्टि कर दी है कि वह ट्रम्‍प के चैनल पर प्रतिबंध को बढ़ा रहा है. ट्रम्‍प के चैनल के 30 लाख के करीब सब्‍सक्राइबर्स हैं. अमेरिका में 6 जनवरी को हुए कैपिटल हिल दंगों (Capitol Hill Riots) के बाद यह निर्णय लिया गया है. कुछ सोशल मीडिया के प्‍लेटफॉर्म्स ने पहले हीट्रम्प के अकाउंट्स पर प्रतिबंध लगा दिया था, यूट्यूब ने अब अपने प्रतिबंध की पुष्टि की है.

गूगल (Google) के स्‍वामित्‍व वाली संस्‍था यूट्यूब  के वॉशिंगटन (Washigton) में हुई हिंसा के बाद धीमी प्रतिक्रिया और दंगे की भड़काऊ बातों वाले कुछ वीडियो के जरिए प्रसार के लिए आलोचनाओं का सामना करना पड़ा है. यूट्यूब के प्रवक्‍ता ने अमेरिकी राजनीतिक खबरों की संस्‍था ‘पॉलिटिको’ के हवाले से बताया है कि ‘हिंसा की आशंका के मद्देनजर, डोनाल्‍ड जे ट्रम्‍प का चैनल निलंबित रहेगा.’

ये भी पढ़ें- जो बाइडन ने H1B वीजाधारक भारतीयों को दी बड़ी खुशखबरी, कर दिया बड़ा ऐलान

भ्रामक जानकारी देने वाले पोस्ट करने के चलते हुई कार्रवाईकंपनी ने अलग से कहा है कि पूर्व राष्ट्रपति के वकील रूडी गिउलिआनी के अकाउंट को भागीदार कार्यक्रम (पार्टनर प्रोग्राम) से रोक दिया जाएगा. इससे रचनाकार को अपने वीडियो से पैसा बनाने की अनुमति मिल जाती है. अमेरिकी चुनाव के बारे में भ्रामक जानकारी पोस्ट करने के कारण यह कार्रवाई की गई है. यह फैसला कंपनी की नीति का बार-बार उल्लंघन करने के बाद लिया गया है.

76 वर्षीय ने अपने चैनल पर “द बिडेन क्राइम फैमिलीज पेऑफ स्कीम” और “इलेक्शन थेफ्ट ऑफ द सेंचुरी” शीर्षक वाले वीडियो पोस्ट किए हैं, जिनमें लगभग 600,000 ग्राहक हैं.

यूट्यूब के अनुसार, गिउलिआनी तीस दिनों में इस निर्णय के लेकर अपील कर सकते हैं, लेकिन उन्‍हें मुद्दों को हल करना होगा.








Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here